ज्वालामुखी को लेकर एलर्ट जारी, एयरलाइंस कंपनियों ने कैंसल की उड़ान

 

जकार्ता। इंडोनेशिया की आपदा निवारण एजेंसी ने बाली द्वीप के माउंट अगुंग ज्वालामुखी के फिर से सक्रिय होने के बाद सोमवार को अधिकतम स्तर चार के लिए सतर्कता जारी की। इसके साथ ही ज्वालामुखी के आसपास आठ-10 किलोमीटर की परिधि में रहने वाले निवासियों को तुरंत अपने घर खाली करने की चेतावनी भी जारी की गई है। जेट एयरवेज की ओर से सभी देपसपार से सिंगापुर जा रही फ्लाइट 9डब्ल्यू 4622 को कैंसिल करने का फैसला लिया गया है। एजेंसी की ओर से कहा गया है कि ज्वालामुखी पर्वत की चोटी से 12 किलोमीटर दूर तक राख हवा में उठने और कभी-कभी कमजोर विस्फोटों की आवाज को सुना जा सकता है। रात में लपटें दिखाई देती हैं जो इंगित करता है कि संभावित विस्फोट किसी भी समय हो सकता है। एजेंसी की ओर से कहा गया है कि संभावना और आपदा के आसन्न खतरे को देखते हुए पीवीएमजीजी ने समयानुसार छह बजे से सतर्कता के स्तर को तीन से बढाकर चार कर दिया।

माउंट आगुंग ज्वालामुखी से राख हवा में चार हज़ार मीटर (13,100 फ़ुट) ऊपर उठने के बाद विमान कंपनियों को भी रेड वॉर्निंग जारी की गई है। इस सप्ताह इंडोनेशिया के किसी द्वीप पर यह दूसरी घटना है जब ज्वालामुखी से राख निकली है और हवाई उड़ानों में बाधा आई है। रेड वॉर्निंग जारी किए जाने का मतलब होता है कि ज्वालामुखी में राख के साथ विस्फ़ोट होने की आशंका है। बाली एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। हालांकि,बाली के आकर्षण के केंद्र कुटा और सेमिनयाक जैसे इलाके ज्वालामुखी से तकरीबन 70 किलोमीटर दूर हैं। इस अलर्ट साथ ही मलेशिया एयरलाइंस ने कुआलालंपुर और बाली के बीच अपनी सभी फ्लाइट्स को कैंसिल कर दिया है। एयरलाइंस ने नागरुहा राय इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर अपने सभी ऑपरेशंस को फिलहाल के लिए बंद कर दिया है। एयरलाइन का कहना है कि वह स्थिति पर नजर रखे हुए है और सामान्य स्थिति होने के बाद ही कोई फैसला लेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *